दुनिया में छोटे ताजमहल के नाम से विख्यात है ये मकबरा, सच्चाई जानकार हैरान रह जाएंगे आप



कई बार ऐसा होता है कि किसी जगह को देखकर हमें किसी और जगह की याद आ जाती है. हमें लगता है कि ये जगह तो हमने कहीं देखी है. जैसे, आप किसी हिलस्टेशन पर जाते हैं, तो आपको वहां के नजारे देखकर किसी और हिलस्टेशन का ख्याल आता होगा. ऐसी ही एक जगह है बीबी का मकबरा, जिसे देखकर आपको लगेगा कि आप आगरा का ताजमहल देख रहे हैं. बीबी के मकबरे को छोटे ताजमहल के नाम से जाना जाता है और ये महाराष्ट्र के ताजमहल के नाम से भी विख्यात है।


यह मकबरा महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित है. शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज के लिए आगरा में ताजमहल बनवाया था, जिसे देखा देखी औरंगजेब के बेटे और शाहजहां के पोते आजम शाह ने ताजमहल से प्रेरित होकर अपनी मां दिलरास बानो बेगम की याद में बीबी का मकबरा बनवाया. इसका निर्माण 1651 से 1661 ईसवीं के बीच करवाया गया था. इसे देश का दूसरा ताजमहल भी कहते हैं.
7 लाख रुपये की लागत से बना :: ऐसा कहा जाता है कि इसे बनवाने का खर्च तब 700,000 रुपए आया था, जबकि ताजमहल बनवाने का खर्च उस समय 3.20 करोड़ रुपए आया था. यही वजह है कि बीबी का मकबरा को ‘गरीबों का ताजमहल’ भी कहते हैं. आगरा के ताजमहल को शुद्ध सफेद संगमरमर से बनवाया गया था, वहीं बीबी का मकबरा का गुम्बद संगमरमर से बनवाया गया था. मकबरा का बाकी हिस्सा प्लास्टर से तैयार किया गया है, ताकि वह दिखने में संगमरमर जैसा हो।

ये है खास आकर्षण :: बीबी के मकबरा में सुंदर गार्डन, पॉन्ड्स, फव्वारे, झरने हैं. यहां पर अच्छा खासा पाथ-वे है और इसके गार्डन की दीवारें भी ऊंची बनाई गई हैं ताकि बाहर का व्यक्ति अंदर न देख सके. इसके तीन साइड में ओपन पवेलियन है.
अब यहाँ कैसे पहुंचा जा सकता है हम ये भी आपको बताते हैं ::  बस से आने वाले यात्री राज्य के किसी भी शहर से कम दाम में औरंगाबाद यानि सिटी ऑफ गेट तक आ सकते है. शहर में भ्रमण करने के लिए भी कई बसें चलती है, जो पर्यटकों को पूरे शहर में घूमा सकती है.  यहां से 120 किमी. दूर रेलवे स्टेूशन है जिसे मनमाद रेलवे स्टेसशन कहा जाता है. यहां से औरंगाबाद तक 900 रूपए में प्राइवेट टैक्सीे से पहुंचा जा सकता है. औरंगाबाद में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो देश के सभी प्रमुख शहरों और राज्यों से जुड़ा हुआ है. मुंबई, नासिक, शिरडी, पुने, शनिसिंगणापुर, लातूर, नांदेड़ जैसे बड़े शहरों से आपको सीधे तौर साधन आसानी से मिल जाएंगे।


कब जाएं :: औरंगाबाद में गर्मी के दौरान न आएं. गर्मियों के मौसम में यहां का वातावरण बेहद गर्म और बॉडी को दिक्कनत देने वाला होता है.  इस शहर को घूमने का बेस्ट‍ मौसम सर्दियों का है. इस दौरान यहां का न्यूइनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस रहता है. अक्टूसबर से मार्च तक यहां बड़ी तादाद में लोग घूमने आते हैं. वहीं आप यहां मानसून में भी घूम सकते हैं.
टिकट ::   यहां घूमने के लिए भारतीयों के लिए 10 रुपए का टिकट है. वही विदेशी नागरिकों के लिए 250 रुपए का टिकट है.
तौर फिर देर ना करिये बैग पैक करिए और निकल जाइये छोटे ताजमहल के दीदार के लिए।


Pallavi Mishra

A world traveller and a blogger/journalist who views the world wearing multi-coloured goggles. She believes that life is to live not to survive.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *